स्वास्थ्य के निर्धारक

सामाजिक आर्थिक हैसियत, अंग्रेजी में दक्षता, स्वास्थ्य ज़रूरतों, और सांस्कृतिक पहचान के लिहाज से एशियाई व अमेरिकी लोग महत्वपूर्ण रूप से विविधता वाले होते हैं। ये खूबियां, कई अन्य कारकों- जैसे कि रोग के कारणों की जानकारी व विश्वास, उपचार के तरीके, और बचाव के महत्व – के साथ मिलकर, अक्सर एशियाई अमेरिकी लोगों को गुणवत्तायुक्त स्वास्थ्य देखभाल तलाशने व पाने में देरी पैदा करते हैं।

नतीजे के तौर पर, शोध एशियाई अमेरिकी लोगों के बीच गुणवत्तायुक्त स्वास्थ्य देखभाल में पर्याप्त अवरोध होने का संकेत देते हैं। कैसर कमीशन ऑन मेडिकेड एंड अंइंश्यूर्ड के हाल के अध्ययन में पाया गया कि गैर-लातिन अमेरिकी श्वेत लोगों की तुलना में एशियाई व अमेरिकी में अपने नियोक्ता, और जो लोग नियोक्ता-प्रायोजित कवरेज नहीं पाते हैं, से स्वास्थ्य बीमा पाने की संभावना कम होती है, केवल 9% स्वतंत्र रूप से बीमा कराते हैं।

समस्या को बढ़ाते हुए, एशियाई अमेरिकी लोगों पर अक्‍सर सीमित अंग्रेजी दक्षता और अमेरिका की जटिल एएएचआई देखभाल व्यवस्था की खराब समझ का बोझ पड़ जाता है। समुदाय के सदस्य पूछने के लिए सही सवाल और यहां तक कि किससे पूछा जाए भी नहीं जानते हैं और उनमें इसकी स्पष्ट समझदारी की कमी होती है कि अपने नये सांस्कृतिक संदर्भ में अपनी समस्या का मूल्यांकन कैसे किया जाए।

सामाजिक निर्धारक

आमदनी:

  • सबसे ऊपर के आय वर्ग के लोग, सबसे नीचे के लोगों की तुलना में, औसतन, कम से कम साढ़े छह साल ज़्यादा जीने की उम्मीद कर सकते हैं।
  • दस में से एक एशियाई व अमेरिकी गरीबी में रहता है।
  • 7.9% भारतीय अमेरिकी गरीबी रेखा से नीचे रहते हैं।

शिक्षा:

  • कॉलेज स्नातक हाई स्कूल पूरी न करने वाले लोगों की तुलना में कम से कम पांच साल और कॉलेज पूरा न करने वाले लोगों की तुलना में दो साल ज़्यादा जीने की उम्मीद कर सकते हैं।
  • 14.6% एशियाई अमेरिकी लोगों के पास हाईस्कूल का डिप्लोमा नहीं होता; यह संख्या काफी बढ़ जाती है जब इसे जातीय समूह में से घटाया जाता है।
  • 9.5% एशियाई भारतीयों के पास हाई स्कूल डिप्लोमा नहीं होता

स्वास्थ्य देखभाल तक पहुंच:

  • 18-64 वर्ष की उम्र के बीच के पांच में से लगभग 1 एशियाई व अमेरिकी द्वारा कोई स्वास्थ्य बीमा या गैरबीमाकृत होने की रिपोर्ट है।
  • एशियाई व अमेरिकी उपसमूह के लोगों के बीच स्वास्थ्य कवरेज में काफी विचलन है। नियोक्ता प्रायोजित कवरेज कोरियाई लोगों में 49% जितने कम से लेकर एशियाई भारतीयों में 77% होता है।

भाषायी व सांस्कृतिक निर्धारक

एशियाई व अमेरिकी सांस्कृतिक व भाषायी अवरोध का सामना करते हैं जो अक्सर उन्हें उपलब्ध स्वास्थ्य चर्या सेवाओं तक पहुंच उपलब्‍ध करने में निरुत्साहित करता है या रोकता है। ज़्यादातर मामलों में, सीमित अंग्रेजी दक्षता वाले एशियाई अमेरिकी लोगों को अमेरीकी स्वास्थ्य चर्या व्यवस्था को समझने या स्वास्थ्यचर्या प्रदाता के साथ संवाद करने में बाधा होती है।

  • अन्य जातीय अल्पसंख्यक समूहों की तुलना में मोंटगोमरी काउंटी में एशियाई भाषा बोलने वाले घरों में भाषायी अलगाव सबसे ज़्यादा होता है।
  • 36% एशियाई अमेरिकी लोगों के ”बहुत अच्‍छी से कम” अंग्रेजी बोलने की रिपोर्ट मिलती है
  • एशियाई व अमेरिकी जनसंख्‍या का तीन-चौथाई घर पर अंग्रेजी के अलावा अन्य भाषा बोलता है।
  • लातिन अमेरिकी लोगों के साथ, एशियाई अमेरिकी लोगों की ज़रूरत होने पर चिकित्सकीय देखभाल हमेशा पाने की संभावना अन्य जातीय समूहों से कम होती है।

एक महत्वपूर्ण समस्या यह है कि कई एशियाई अमेरिकी लोगों मानते हैं कि डॉक्टर उनकी संस्कृति या उनके मूल्यों को नहीं जानते हैं। संपूर्ण जनसंख्या से तुलना करने पर, उनके द्वारा देखभाल को ऊंचा दर्जा देने और की गई देखभाल में भरोसा रखने की संभावन कम होती है, जबकि रोग उपचार के बारे में अलग सांस्कृतिक मूल्य और पारंपरिक विश्वास लोगों को देखभाल पाने से रोकता है। स्वास्थ्य देखभाल के लिए, इन पारंपरिक नजरियों की वजह से, संभव है कि एशियाई अमेरिकी लोगों देखभाल उपलब्‍ध करने के मकसद या ज़रूरत को महत्व नहीं दें या पहचाने नहीं। यह व्यवहार अक्सर रोग विकसित होने की बाद की अवस्था में पता चलने का कारण बनता है।